प्रिय पाहुन, नव अंशु मे अपनेक हार्दिक स्वागत अछि ।

मंगलवार, 26 मई 2020

नव अंशु (गजल संग्रह) पढ़ू


डाउनलोड बटन पर क्लिक क' नव अंशु   डाउनलोड क' सकै छी।


बुधवार, 22 जनवरी 2020

नानीक कुकुर

5.62
कुकुर एकटा पोसलक नानी
भानस   घरमे    घुसलै   ओ
तामसे नानी ने  देलकै  रोटी
एहि   लेल   त'   रूसलै  ओ

चिड़ियाँ

5.61 चिड़ियाँ

हमर आंगन सुन्दर चिड़ियाँ
गहुँम  बिछै  लए  आबै  छै
ल'ग बजाबी जतबे ओकरा
ओतबे   दूर  ओ   भागै  छै
बैस चारपर  गीत  गाबि क'
हमरा    खूब    सिहाबै   छै

ललका फुक्का

5.60 ललका फुक्का

हाथसँ   छूटलै
ललका फुक्का
सीधे उपर   उड़ल जाए
कुदि-कुदि क'
पकड़अ चाही
मुदा दूर ओ भागल जाए

©अमित मिश्र

अरे बाप रे

5.59
अरे बाप रे

सगरो करिया भरल कुहेस छै
अरे बाप रे
कम्बल ओढ़ने  सगर  देश  छै
अरे बाप रे

ओस खसै छै झीसी  बनि क' आंगनमे
बाट भिजै छै ओहिना जहिना सावनमे
एक   बीत  ने  बचल  शेष  छै
अरे बाप रे
कम्बल ओढ़ने  सगर  देश  छै
अरे बाप रे

ख'ढ़ अ'ढ़सँ कुकुरबा  कुहरब  बंद भेल ने
कनकन्नी बिसबिस्सी किछुओ मंद भेल ने
सुरूजक नै किछु लवलेस छै
अरे बाप रे
कम्बल ओढ़ने  सगर  देश  छै
अरे बाप रे

भोंकि रहल छै सुलफा किओ पएर हाथमे
गँती   त'रमे   स्वेटर   बूसट  टोपी   माँथमे
अनमन एलियन सन  भेष छै
अरे बाप रे
कम्बल ओढ़ने  सगर  देश  छै
अरे बाप रे

बात नीक  एक्कहि टा जे  इस्कूल छै बन्दे
सीरक त'रमे पढ़ब लिखब खेलब छै धन्धे
निकलैमे बाहर बड़ कलेस छै
अरे बाप रे
कम्बल ओढ़ने  सगर  देश  छै
अरे बाप रे

जीवन सुखद बनाउ

5.58 जीवन सुखद बनाउ

नै बेसी घबराउ अहाँ
नै बेसी डेराउ अहाँ
बाधा-विध्न वा कठिन समयमे
आगू बढ़िते जाउ अहाँ

ताकू पाछू घुरि ने अहाँ
काज निमाहू सुरिमे अहाँ
साधि निशाना चलू लक्ष्यपर
नै बेसी भरमाउ अहाँ

चिन्हू असली मीत अहाँ
बाँटू सगरो प्रीत अहाँ
गलत बाटपर चलि रहलै जे
तकरासँ बचि जाउ अहाँ

हँसैत-खेलैत रहू अहाँ
चंचल बनि क'  चलू अहाँ
आलस मोनक सभ मेटा क'
जीवन सुखद बनाउ अहाँ