प्रिय पाहुन, नव अंशु मे अपनेक हार्दिक स्वागत अछि ।

शुक्रवार, 3 अगस्त 2018

सपना हमर

5.19 सपना हमर

सपना हमर एक
दुनियाँ सुधारि दी
हरियर गाछ-बिरिछ
सगरो पसारि दी

सपना हमर एक
घोसला हजार होइ
ठाढ़ि-ठाढ़ि लागल
ओकरे बजार होइ

सपना हमर एक
भूखल ने लोक होइ
हँसै आ हँसबैपर
कोनो ने रोक होइ

सपना हमर एक
कियो ने लचार होइ
दुख केर चेन्ह नै
सुखमय संसार होइ

गिन्नी जी

5.18 गिन्नी जी

गिन्नी जी ! यै गिन्नी जी !
लिअ पैसा गिन्नी जी
गुड्डी आनू
डोरी बान्हू
उप्पर खूब उड़ेबै हम
चन्ना धरि पहुँचेबै हम

गिन्नी जी ! यै गिन्नी जी !
लिअ पैसा गिन्नी जी !
रस्सी आनू
तकरा तानू
ताहिपर कूद लगेबै हम
संगे खेल खेलेबै हम

गिन्नी जी ! यै गिन्नी जी !
लिअ पैसा गिन्नी जी
मुरही आनू
कचरी छानू
देखा देखा क' खेबै हम
सभक मन ललचेबै हम

पपलू कानै छै

5.17 पपलू कानै छै

पपलू जीकेँ दस टा टाका
सेहो हेरेलै भेलै घाटा
मम्मीकेँ फेर तामस भेलै
दू टा थप्पर पड़िये गेलै
ऊँ ऊँ पपलू कानै छै
अपन गलती मानै छै

पपलू ओरहा खाइ छै
संगमे नोन मिरचाइ छै
करू खूब छलै मिरचाइ
आँखि नोर सू सू सुसुआइ
ऊँ ऊँ पपलू कानै छै
खाएब ने करू मानै छै

सुन्नर मेला गेलै लागि
पपलू गेल स्कूलसँ भागि
तामसे मैडय धेलनि कान
कहलनि- भेलें तूँ शैतान
ऊँ ऊँ पपलू कानै छै
अपन गलती मानै छै

कोन देश छै चानक पार

5.16 कोन देश छै चानक पार ?

कोन देश छै चानक पार ?

जाहि गामसँ
चान आबै छै
कारी नभकेँ
चमका दै छै
सात रंग केर गगरी ल' क'
रांगै नभकेँ के चित्रकार ?

एते तरेगण
कोना उगै छै ?
भोर होइतहिं
किरण आबै छै
कोन गामसँ पानि आनि क'
घैलक घैल करै बौछार ?

कोन नावपर
मेघ हेलै छै ?
ध्रुव तारा संग
कत' खेलै छै ?
बाता दे माँ, कियो ने बतबय
कोन देश छै कोन संसार ?

चुप चुप चुप

5.15 चुप चुप चुप

नम्हर जखन बात करै त'
छोटका बौआ चुप चुप चुप

दू जन जखन चर्चा करतै
तोरासँ जँ किछ नै पुछतै
टोक देनइ नै नीके रहतै
एहन समयमे चुप चुप चुप

बीचमे बाजने मूर्ख कहेबें
झुट्ठे सब लग बुरबक बनबें
अपन सन मुँह ल' क' एबें
एहिसँ बढ़ियाँ चुप चुप चुप

बात तोहर नै लागतै नीक
तखन किछ नै हेतै ठीक
किए फँसेबें अपन टीक
सबसँ सुन्दर चुप चुप चुप

तोहर बातसँ तामस चढ़तै
मारा-मारी झगड़ा बढ़तै
झूठ-फूस ओ गलती गढ़तै
तेँ तूँ रहि जो चुप चुप चुप

बढ़ियाँ बौआ

5.14 बढ़ियाँ बौआ

बढ़ियाँ बौआ हँसैत रहै छै
बेमतलब नै कानैत रहै छै

बढ़ियाँ बौआ पढ़ैत रहै छै
भरि दिन नै खेलैत रहै छै

बढ़ियाँ बौआ बढ़ैत रहै छै
बाधा देख नै डरैत रहै छै

बढ़ियाँ बौआ लिखैत रहै छै
सबक सभटा करैत रहै छै

बढ़ियाँ बौआ सुनैत रहै छै
बेमतलब नै लड़ैत रहै छै

बढ़ियाँ बौआ सहैत रहै छै
मेहनत तैयो करैत रहै छै