प्रिय पाहुन, नव अंशु मे अपनेक हार्दिक स्वागत अछि ।

शुक्रवार, 14 जून 2013

काल्पनिक

102. काल्पनिक

हमरा संग सात वर्षक भागिन एकटा फिल्म देखैत छल ।ओहि फिल्ममे हीरो समाज सुधारक छल ।गुण्डा सबसँ लड़ैत कतेको बेर हाथ-पएर तोड़बा चुकल छल ।गरीबक हितैसी छल ।कने काल बाद संगे न्यूज चैनल देखऽ लागलौं ।न्यूजमे वएह हीरोकेँ पुलिस पकड़ने छलै ।ओ अपन घरक नोकरकेँ बड मारि मारने छल आ सिगरेटसँ चाम जरा देने छल ।ओकरा देख हमर भागिन बाजल "मामा, ई तँ गरीबक भला करैत अछि तखन ई गरीबकेँ कोना मारने हएत ?ओतऽ तँ ई रक्षक बनल छल, एतऽ भक्षक कोना बनि गेलै ?"
"बौआ, ओ सबटा काल्पनिक छलै ।लोक फूसियाहा रक्षक बनै छै ।ओतऽ तँ टाकापर नीक चरित्र गढ़ल गेल छलै, मुदा एतऽ वास्तविक अछि ।अमीर एहने दूमुँहाँ साँप होइ छैजे भीड़मे मलहम लगबै छै आ एसगरमे घावकेँ भोकन्नर कऽ दै छै ।" हमर ई बात ओ बुझलै वा नै से तँ नै पता, मुदा असलियत इएह छै ।

1 टिप्पणी:

  1. अमित जी हिंदी में पोस्ट लिखें और एक दिन में एक ही पोस्ट करें किसी के पास ज्यादा पोस्ट पड़ने का टाइम नही रहता

    recent post
    फोल्डर को रिस्टोर कर डिलीट फाइल वापस ले
    ब्लॉग पसंद आये तो दोस्त ब्लॉग बनें

    उत्तर देंहटाएं