प्रिय पाहुन, नव अंशु मे अपनेक हार्दिक स्वागत अछि ।

सोमवार, 10 जून 2013

जड़ि

81. जड़ि

ऑपरेशन थियेटरक बाहर पत्नी स्ट्रेचरपर पड़ल छथि आ पति सिरमामे ठाढ़ ।पत्नी कहै छथि " हमरा छोड़ि दिअ अहाँ ।केंसरक इलाज बड मगह छै ।मरैए दिअ ने ।"
पति पत्नीक उधियाइत केशपर आँङुर नचबैत "कोना छोड़ि देब अहाँकेँ ? अहाँ टाकाक चिन्ता जुनि करू ।खेत-पथार बेचि बाचि अहाँक इलाज कराएब ।"
" बिमरियाह देहक कोन ठेकान ? कखन छै, कखन नै ।टाका रहत तँ बाल-बच्चाक भविष्य बनि जेतै ।दू आखर पढ़ि-लिख लेत ।" पत्नी कुहरैत कहलनि ।
पति स्ट्रेचर भीतर लऽ जाइत बाजल "अहीं नै रहब तँ बाल-बच्चाक भविष्य कोना बनतै ? अहाँ घरक जड़ि छी ।जँ जड़िये सूखि जेतै तँ फल-फूल कोना लागतै ?अहाँकेँ एहि बगैचाक लेल जीबऽ पड़त . . . ।
ऑपरेशन शुरू भऽ गेल छल ।

अमित मिश्र

2 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे आपका ब्लॉग बढ़िया लगा तो में इसमें शामिल हो गया
    मेरे ब्लॉग पर भी आयें अपना सहयोग दें और पसंद आये तो जरुर जुड़ें
    शायद आपको जरुर पसंद आएंगे
    धन्यवाद

    पहला ब्लॉग
    dusra blog
    teesra blog

    उत्तर देंहटाएं